गमले के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें | Magic potting soil | यहाँ से खरीदिये सस्ता-अच्छा

गमले के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें | Magic potting soil | यहाँ से खरीदिये सस्ता-अच्छा

अगर आप शहरों में निवास करते हें और आप अपने घर में पोधे लगाने के शोकिन हें तो आप को पोधे लगाते समय बहुत सी परेशानिया आती हें जेसे- मिट्टी कहा से ले , मिटटी केसे तेयार करे , आप की इन्ही परेशानियों को देखते हुये हम आज आपके लिये यह जानकारी लेकर आये

बागबानी शुरु करने का सबसे पहला कार्य होता हें उत्तम मिटटी का चुनाव करना , बागबानी के लिये उत्तम मिट्टी वह होती हें जिसमे पानी का अच्छा निकाश होता हें जिसका PH लेवल भी 6 से 7 के बिच में होता हें उत्तम मिटटी में सभी आवश्यक पोषक तत्व मोजूद होते हें

गमले के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें
गमले के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें

ईस पोस्ट को पूरी तरह पढने के बाद आप को बहुत सारी जानकारी मिलेगी और आप आसानी से अपने घर के घमले के और पोधे के लिये उत्तम मिटटी तेयार कर सकते हें और आसानी से अपने घर के लिये पोधे लगा सकते हें

पोधे के लिये आप ऐसे घमले का चुनाव करे जिसमे घमले के निचे छोटे-छोटे छेद हो जिससे अनावश्यक पानी घमले में न रहे , पोधे मिटटी के घमले में और सीमेंट के घमले के अच्छा विकाश करता हें प्लास्टिक के घमले के मुकाबले में इसके लिये आप मिटटी से बने घमले का उपयोग जयादा करे , पोस्ट के अंत में आपको उत्तम मिटटी खरीदने का लिंक भी मिलेगा यहा से आप इसे खरीद भी सकते हें

गमले के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें | Magic potting soil

घर में पोधे लगाने के लिये मिट्टी के प्रकार

घर में पोधे को तेयार करने के लिये और पोधे को उगाने के लिये आप पोधे के लिये 2 तरह से मिटटी तेयार कर सकते हें जिसकी जानकारी और विधि आपको यहाँ पर मील जायेगी

  • 1Poting soil – मिटटी आधारित घमले की मिटटी
  • 2 – Soil less Medium – कोकोपिट आधारित मिटटी

कोको-पिट आधारित मिट्टी एक एसी मिटटी हें जिसमे मिटटी का उपयोग नहीं किया जाता हें इसे तेयार करने की सभी जानकारी आपको आगे मिल जाएगी , poting soil एक उत्तम मिट्टी का मिक्सचर होता हें जिसमे आवश्यक मात्रा में मिट्टी मिली हुई होती हें इसको तेयार करने की जानकारी आपको आगे मिलेगी

घमल के लिये उत्तम – मिटटी केसे तेयार करे

अगर आप घर की सजावट के लिये घर में पोधे लगाना चाहते हें या घर में सब्जिया उगाना चाहते हें तो आप को पोधे के घमले के लिये एक उत्तम मिटटी का मिक्सचर तेयार करना चाहिये जिसमे पोधे सही तरह से विकाश करे और पोधे पर अच्छे फल और फुल मिले

  • 40 से 50 % की साधारण मिटटी
  • 30 % तक की मात्रा वर्मी-कम्पोस्ट या सड़ी हुई गोबर की खाद का उपयोग करे
  • 10 प्रतिशत बालू मिटटी
  • 10 प्रतिशत कोको-पिट और parlite , और वर्मी-कुलाइट
  • 5 प्रतिशत में आप निम् की पत्तीया और खली का उपयोग करे
  • 5 प्रतिशत में आप आवश्यक मात्रा में फास्फोरस पाउडर / नाइट्रोजन / पोटाश और अन्य पोषक तत्वों का उपयोग करे

NOTE –

मिट्टी की मात्रा – 40% मिट्टी के अंदर आप अच्छी और साफ पोषण यूक्त मिट्टी का उपयोग कर सकते हें एसी मिट्टी का उपयोग करे जिसमे कंकड़ पत्थर नहीं हो और मिटटी पूरी साफ हो और पोषण यूक्त हो , यह मिट्टी आप खेत से गार्डन से ले सकते हें

रेतीली /बालू मिट्टी – पोधे के लिये बालू मिटटी भी बहुत ही अधिक आवश्यक होती हें रेतीली मिटटी में मिटटी के बड़े-बड़े कण होते हें जिसके कारण घमले में पानी नहीं रुकता हें और पोधे अधिक पानी और फंगस से ख़राब नहीं होंगे

खाद की मात्रा – पोधे के लिये मिट्टी में आवश्यक मात्रा में खाद अवश्य मिलाये जिससे पोधा लम्बे समय तक फल/फुल देता रहेंगा , घमले की मिटटी में आवश्यक मात्रा में आप 30% तक वर्मी-कम्पोस्ट या गोबर की खाद जरुर मिलाये , पोधे के लिये आवश्यक मात्रा में आप जेविक खाद दे जिससे पोधा लम्बे समय तक जीवित रहेंगा , वेर्मी-कम्पोस्ट के अलावा आप गोबर की खाद का उपयोग करेंगे तो आप 12 महीने से अधिक पुराने गोबर का ही उपयोग करे

10% Soil less Midiyam – आपको अपने घमले के लिये मिटटी तेयार करते समय मिट्टी के मिक्सचर में कुछ मात्रा में ( soil less midiyam ) भी जेसे – कोको-पिट , परलाईट , वर्मी-कुलाइट , मिलाना अच्छा रहता हें हें इन सभी आवश्यक सामग्री को निश्चित मात्रा में मिला कर के आप एक अच्छा soil less midiyam तेयार कर सकते हें और और अपने गार्डन के पोधे तेयार कर सकते हें

5 % निम् फ़र्टिलाइज़र – अगर आप अपने गार्डन के लिये उत्तम मिटटी तेयार कर रहे हें तो आप को अपने घमले की मिटटी तेयार करते समय मिटटी के मिक्सचर में कुछ मात्रा में निम्-की -पत्तिया , निम् की खल , निम् की निमोली का चुरा मिलाना अच्छा रहता हें इसके मिटटी में प्रयोग करने से मिटटी में फंगस , और , किट नहीं लगते हें और मिटटी के कारण पोधे को कोई भी बीमारी नहीं होती हें

5% फ़र्टिलाइज़र – पोधे के लिये मिटटी तेयार करते समय अगर आप मिटटी में आवश्यक मात्रा में खाद-उर्वरक जरुर मिलाये इनमे आप DAP , NPK ,SSP जेसी खाद का उपयोग पोधे के अनुसार कर सकते हें

यह भी पढ़े – IFFCO liquid Uera nano -युरिया के एक बैग की जगह अब आधा लीटर नैनो युरिया का उपयोग करें

NOTE

मुख्य तोर पर जानकारी दी जाये तो आपको यह जानकारी अवश्य धयान रखना हें अगर आपके पास में यह सभी सामान उपलब्द नहीं होता हें तो आप आसानी से इन आगे दिये गये सामान को इकट्टा करके अपने घर के घमलो के लिये उत्तम मिटटी तेयार कर सकते हें

इसके लिये आप को 2 भाग खेत की साफ और उत्तम मिट्टी लेनी हें दूसरा आपको 1 भाग गोबर की जेविक खाद लेनी हें तीसरा आपको 1 भाग रेतीली /बालू मिटटी लेनी हें चोथे नंबर पर आप कुछ मात्रा में निम् की निमोलिया / निम् की खली / निम् की पत्तियों में से जो भी आपके पास हो आप काम में ले सकते हें निम् के उपयोग से पोधे में फंगस और कीड़ो का नियंत्रण होता हें

पोधे के लिये Soil less मिटटी केसे तेयार करे – Soil less Medium

यह एक ऐसा मीडियम होता हें इसके अंदर मिटटी का उपयोग नहीं किया जाता हें

  • 50 % कोकोपिट
  • 20 % प्रर्लाइट
  • 20 % वर्मी-कम्पोस्ट
  • 10 % वर्मीकुलाईट
  • कुछ मात्रा में आप चावल की भूसी भी मिला सकते हें

बड़े शहरो में ईस विधि को अधिक काम में लिया जाता हें इसमें आपको मिटटी की आवश्यकता नहीं होती हें इसे आप आसानी से बाजार से खरीद कर के मिक्सचर तेयार कर सकते हें आप बड़ो शहरो में निवास करते हें तो आप घर बेटे ही अपने लिये उत्तम मिटटी Online खरीद सकते हें उत्तम मिट्टी खरीदने के लिये आप इस पेज में थोडा निचे जाकर के बहुत ही अच्छी और सस्ती उत्तम मिटटी खरीद सकतेहे इसे खरीदने वाले लोगो में से 80 % लगभग लोगो ने इसे बहुत अच्छा बताया हें

मिटटी के उपयोग के बारे में ध्यान रखने वाली बाते

  • आप बिज की बहाई करने वाले हें तो को साधारण मिटटी को 10% कम करके बालू मिटटी की मात्रा को 10 % बड़ा लेना अच्छा रहेंगा इसमें बिज जल्दी उगेगा
  • घमले में भरी मिट्टी को हर 20 से 30 दिन में निराई-गुड़ाई करते रहे जिससे पोधे का अच्छा विकाश होता रहेंगा
  • जब भी आपको घमले की पुरानी मिटटी काम में लेनी हें तब आपको पुरानी मिटटी की फंगस का नियंत्रण जरुर करना हें
  • गमले की पुरानी मिटटी का फंगस का नियंत्रण करने के लिये आप पुरानी मिटटी को 10 से 15 दिन तक तेज धुप में रखे जिससे नुकसानदायक किट का नियंत्रण भी हो जायेगा
  • पुरानी मिटटी को काम में लेते समय आप आवश्यक मात्रा में खाद का उपयोग करके ही पुरानी मिटटी को घमले में भरे
  • अलग-अलग सीज़न में पोधे लगाने के लिये हमें समय के अनुसार पोधे के लिये मिटटी तेयार करना आवश्यक होता हें
  • गर्मी के पोधे लगाने के लिये आपको फरवरी के महीने में ही पोधे के लिये मिटटी और घमले तेयार कर लेना चाहिये
  • आप सर्दी के लिये पोधे लगाना चाहते हें तो आप सितम्बर के महीने तक ही घमले के लिये मिटटी तेयार कर ले
  • गमले के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें

यह भी पढ़े – गार्डन टूल्स और औजारों के उपयोग की जानकारी – used for gardening tools in hindi

घमले में पोधा लगाते समय धयान रखने वाली बाते

  • घमले की पुरानी मिटटी में 10 से 15 दिन धुप देकर के आवश्यक मात्रा में खाद को मिक्स करके ही घमले में मिटटी को भरे
  • घमले में मिट्टी के साथ में कभी भी चिकनी मिट्टी का उपयोग नहीं करना चाहिये ,इससे घमले में पानी कम रुकेगा और पोधे की जड़े सड़ेगी भी नहीं
  • घमले में मिट्टी को भरते समय घमले में निचे की परत में बालू मिट्टी को भरे जिससे घमले में पानी रुकेगा नहीं और घमले से अधिक पानी निकल जायेगा
  • घमले में पोधे को लगाने के 20 से 30 दिन में घमले की निराई-गुड़ाई करते रहे जिससे पोधा अच्छा विकाश करेगा

खरीदिये ( उत्तम मिट्टी ) – Best Magic potting soil

आपके सवाल-हमारे जवाब

1 – पोधे के लिये कोनसे घमले का चुनाव करे

आप पोधे की प्रकति के अनुसार और पोधे के फेलाव के अनुसार ही घमले का चुनाव करे जिसमे पोधे की जड़े अच्छी तरह फेल जाये छोटे घमले में आप जड़ो के कम फेलाव वाले पोधे को लगा सकते हें

2 – घमले में कोन-कोन से पोधे लगा सकते हें

छोटे घमले में आप सभी तरह की सब्जियों के पोधे लगा सकते हें और ऐसे सभी तरह के पोधे को आप छोटे घमले में लगा सकते हें जिनकी जड़े अच्छी तरह से विकाश कर सकती हें

3 – पोधे के अच्छे विकाश के लिये क्या क्या कार्य करे

घमले में पोधे के अच्छी तरह विकाश करने के लिये आप पोधे को समय-समय पर पानी देते रहे और आवश्यक मात्रा में खाद-और-उर्वरक भी देते रहे , पोधे के अच्छे विकास के लिये आप घमले की 20 से 30 दिन में निराई-गुड़ाई करते रहे

4 – सब्जियों के पोधे के लिये कोनसी खाद घमले में दे

घमले में सब्जियों के पोधे से सब्जियाँ प्राप्त करने के आप आवश्यक मात्रा में गोबर की सड़ी हुई खाद , वर्मी-कम्पोस्ट , पोटास , केल्सियम और पोधे के अच्छे विकास के लिये नाइट्रोजन (यूरिया ) देते रहे , गमले के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें

गमले के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें | Magic potting soil | यहाँ से खरीदिये सस्ता-अच्छा

Leave a Comment