ड्रैगन फ्रूट की खेती- एक बार लगाकर 6 लाख की कमाई 25 सालो तक करे | dragon fruit in hindi

ड्रैगन फ्रूट की खेती- एक बार लगाकर 6 लाख की कमाई 25 सालो तक करे | dragon fruit in hindi

ड्रेगन फ्रूट की खेती अभी भारत में भी बहुत अधिक होने लगी हे ड्रेगन फ्रूट की सबसे अधिक खेती चीन , वियतनाम , थाईलैंड , श्रीलंका , इज़रायल में होती हे

भारत में भी अब इसकी मांग बढ़ने के कारण इसकी खेती भी बढ़ने लगी हे इसका सामान्य भाव बाजार में 200 से 300 रूपये के लगभग होता हे ड्रैगन फ्रूट का पौधा एक सजावटी पौधे के रूप में भी लगाया जाता हे

ड्रैगन फ्रूट की खेती- एक बार लगाकर 6 लाख की कमाई 25 सालो तक करे | dragon fruit in hindi
ड्रैगन फ्रूट की खेती

ड्रैगन फ्रूट के बहुत से उत्पाद हे जो अभी मार्केट में भी हे जैसे – जुस , जैली , वाइन , क्रीम , और सौंदर्य सामग्री में भी ड्रैगन फ्रूट का उपयोग किया जाता है इसके फलों को ताजा रूप में ही काम में लिया जाता हे

ड्रैगन फ्रूट की खेती का परीचय – dragon fruit in hindi  

ड्रैगन फ्रूट के फल का विकास रात के समय ज्यादा होता हे इसके कारण इसे क्वीन ऑफ़ द नाईट भी कहा जाता हे यह कैक्टस कुल का पौधा हे

इसके फल में शरीर के लिये बहुत अधिक विटामिन , प्रोटीन की मात्रा पायी जाती हे

इसे सुपर फूड भी कहा जाता हे यह शरीर की प्रतिरक्षा श्रमता को भी बढ़ाता हे और शरीर को बहुत सी बीमारियों से लड़ने के लिए तैयार करता हे

ड्रैगन फ्रूट की लागत

इसकी बागबानी के लिए एक एकड़ में 1000 पौधे की आवश्यकता होती हे प्रत्येक पौधे की लागत  80 से 120 रूपये के लगभग होती हे सभी पौधे को पोल की सहयता से लगाया जाता हे

पोल की लागत 300 से 400 रूपये के लगभग होती हे शुरुआती खर्च में ड्रिप लाइन लगाई जाती हे इसकी खेती के लिए यह सभी लागत शुरुआत में ही आती हे

एक बार खर्च के बाद इसकी बागबानी 20 से 25 साल तक चलती हे

लागत

  • पौधे की लागत – 1000 गुणा 80  = 80,000
  • पोल की लागत – 1000 गुणा 300 = 300000 = 3 लाख
  • ड्रिप की लागत – 30 हजार से 40 हजार तक

एक एकड़ के लिए 4 लाख से 4.5 लाख के लगभग लागत आती हे एक बार बाग लगाने के बाद सिचाई और खाद का ही खर्चा होता हे इसके पौधे लगाने के बाद हम 25 साल तक उत्पादन ले सकते हे

 ड्रैगन फ्रूट की इनकम 

ड्रैगन फ्रूट की खेती में पहले साल आय थोड़ी कम होती हे दूसरे साल से इसकी खेती में प्रति एकड़ 5 लाख के लगभग आय सामान्यता हो जाती हे

इसकी खेती में लागत पहले साल ही आती हे दूसरे साल से लागत ढेकभाल की ही होती हे इसमें किसान 25 साल तक आय प्राप्त कर सकते हे लगत केवल एक बार ही आती हे

यह भी पढ़े – लेवेंडर की खेती के फायदे , खूबसूरती और ओषधीय लाभ की जानकारी | lavender plant in hindi

ड्रैगन फ्रूट की वैरायटी

ड्रैगन फ्रूट की कई वैरायटियां हे जिनमे मुख्य तीन वैरायटियां प्रसिद हे

  • 1-लाल रंग के गुद्दे वाला लाल रंग का फल
  • 2-सफ़ेद रंग के गुद्दे वाला लाल रंग का फल
  • 3- सफ़ेद रंग के गुद्दे वाला पिले रंग का फल मार्केट में अधिक पाए जाते हे

ड्रैगन फ्रूट की जलवायु

इसकी खेती के लिए 20 से 30 डिग्री सेल्सियस का तापमान सबसे अच्छा होता हे जहा पर जयादा धुप हो वहा पर इसकी खेती करना अच्छा नहीं माना जाता हे

इसकी खेती  के लिए 40 से 50 सेमी वार्षिक की दर से बरसात की जरुरत होती हे गर्म जलवायु इसकी खेती के लिये अच्छी होती हे

ड्रैगन फ्रूट में भुमि की तैयारी

ड्रैगन फ्रूट की खेती सभी तरह की मिटटी में आसानी से की जा सकती हे रेतीली और दोमट मिटटी में भी इसकी खेती की जा सकती हे

इसकी खेती में 5ph से 7ph तक का तापमान सबसे अच्छा होता हे अच्छे जल निकास वाली मिटटी ड्रेगन फ्रूट की खेती के लिये सबसे अच्छा होता हे

ड्रैगन फ्रूट में सिचाई

ड्रेगन फ्रूट में अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती हे इसे आवश्यकता के अनुसार ड्रिप से सिंचाई कर सकते हे

यह भी पढ़े – IFFCO liquid Uera nano fertilizers | किसान युरिया के एक बैग की जगह अब आधा लीटर नैनो युरिया का उपयोग करें

ड्रैगन फ्रूट – खेत की तैयारी

इसकी खेती में अच्छी पैदावार के लिए खेत की अच्छी तरह से गहरी बुहाई करना जरुरी हे जिससे जमीन भुरभुरी हो जाती हे और खरपतवार भी ख़तम हो जाता हे

अच्छी तरह बुहाई करने के बाद खेत में धुप लगाने के लिए छोड़ दिया जाता हे कुछ दिनों तक दूप लगने के बाद खेत में अच्छी तरह सड़ी हुई

गोबर की खाद और कम्पोस्ट को खेत में डाल कर अच्छी तरह बुहाई कर देनी चाहिये

ड्रैगन फ्रूट की खेती में आवश्यक कार्य – dragon fruit in hindi  

ड्रैगन फ्रूट की खेती में बहुत से कार्य होते हे जो किये जाने आवश्यक होते हे

जैसे – ड्रैगन फ्रूट के पौधे कैसे तैयार करे , पौधे कहा से ख़रीदे ,पौधे को कैसे लगाये , पौधे में दिए जाने वाले खाद और उर्वरक , ड्रैगन फ्रूट की खेती में लगने वाले किट और रोग की जानकारी

ड्रैगन फ्रूट के पौधे कैसे तैयार करे

इसकी खेती के लिये पौधे बीज से और पौधे की कलम ( डाली ) से भी इसके पौधे तैयार किये जाते हे बीज से पौधा तैयार करने में समय अधिक लगता हे जिसके कारन पौधे कलम से ही तैयार किये जाते हे

अच्छे पौधे से ही इसके नए पौधे तैयार किये जाते हे किसी विश्वसनीय नर्सरी से ही ड्रैगन फ्रूट के पौधे खरीदने चाहिए जिससे हमें उत्तम गुणवत्ता और उत्पादन वाले पौधे प्राप्त हो सके,

अच्छी नर्सरी से ख़रीदे गये पौधे से हमें सही सलाह और अच्छा उत्पादन मिलने की संभावना होती हे

ड्रैगन फ्रूट के पौधे – कैसे लगाये

इसके पौधे 10 – 10 फुट की दुरी पर लगाये जाते हे एक एकड़ में लगभग 1000 के लगभग पौधे लगाए जाते हे इसके एक पौधे की कीमत 80 से 100 रूपये के लगभग हे

इसके पौधे ड्रिप सिचाई के दवरा ही लगाए जाते हे इसके पोधो को जमीन पर नहीं फैलाया जाता हे पौधे को पोल और खम्बे पर चढ़ाया जाता हे

ड्रैगन फल के पौधे जून – जुलाई और फरवरी – मार्च में रोपें जाते हे पौधे की जड़ जब तक नहीं बन जाती हे तब तक पौधे की अधिक देखभाल करनी जरुरी होती हे

kaju ki kheti | काजू की खेती कैसे करे , देखभाल और लाभ की जानकारी | Cashew Farming

ड्रैगन फ्रूट में – खाद और उर्वरक

  • प्रत्येक पौधे के लिए अच्छे विकास के लिये प्रत्येक पौधे में 10 से 20 किलो तक कम्पोस्ट और वर्मीकम्पोस्ट देना अच्छा होता हे पौधे के अच्छे विकास के लिये रासायनिक खाद की भी जरुरत होती हे
  • इसमें यूरिया ,फास्फेट , पोटास की प्रति पौधे के लिए 70 ग्राम , 90 ग्राम , 40 ग्राम की मात्रा पौधे के विकास के लिए देना आवश्यक हे
  • पौधे में फल आने के समय सभी पोधो में यूरिया और पोटास देना आवश्यक हे
  • जिससे फलो का विकास और चमक बढ़ेगी ड्रैगन की खेती में फूल आने के पहले , फूल आने के बाद , फल आने के बाद , भी फास्फेट , यूरिया , पोटास भी देते रहना चाहिए
  • यूरिया की मात्रा को कम और पोटास की मात्रा को फल आने के बाद बड़ा देना चाहिये रासायनिक खाद को पौधे की आवश्यकता के अनुसार ही देना चाहिए
  • पौधे के फैलाव और हाइट के हिसाब से खाद की मात्रा को बढ़ाते रहना चाहिए

ड्रैगन फ्रूट में – किट और रोग

  • ड्रेगन फल की खेती में किट और रोग का प्रभाव बहुत ही कम होता हे अब तक किट और रोग का मामला बहुत ही कम देखने को मिला हे
  • इसके पौधे में फूल मई – जून में आते हे फल अगस्त और दिसम्बर तक ही आते हे
  • इसके पौधे में पहले साल से ही फल मिलने लगते हे फूल आने के 1 महीने के अंदर ही इसके फल पक जाते हे इसके लिए इसे समय पर ही तोड़ ही लिया जाता हे
  • पौधे पर फल पकने वाले हे या नहीं फल के कलर को देख कर आसानी से पहचाना जा सकता हे पके हुये फल का कलर लाल और कच्चे फलो का कलर हरा होता हे
  • फल पकने पर इन्हे समय पर तोड़ लिया जाना चाहिये नहीं तो फल ख़राब होने लगते हे अगर आप फलो को अधिक दुरी पर लेकर जाना चाहते हे तो फलो को पकने के दिन ही तोड़ लिया जाता हे

ड्रैगन फ्रूट के आयुर्वेदिक गुण – लाभ 

इसके फल में विटामिन सी , प्रोटीन , कैल्शियम बहुत अधिक मात्रा में पाये जाते हे इसके फलो में फाइबर भी अधिक मात्रा में पाया जाता हे यह ब्लड प्रेसर ,डायबिटीज़ , जैसी कई बीमारियों में लाभदायक हे

ड्रैगन फ्रूट के पौधे खरीदिये – Online

ड्रैगन फ्रूट के फायदे और नुकशान 

फायदे 

  • अस्थमा में , त्वचा को सुन्दर  बनाने में ,ब्लड प्रेसर में , पाचन किर्या को ठीक करने में , वजन कम करने में , कैंसर ,  बालो के गिरने की समस्या में , कब्ज दूर करने में , डायबिटीज़ में
  • इसके फलो को हमेशा जवान रहने के लिये किया जाता हे इसके सेवन से त्वचा हमेशा जवान रहती हे

नुकशान 

  • वैसे तो ड्रेगन फ्रूट के कोई भी घातक नुकशान नहीं हे नुकशान के मुकाबले में ड्रैगन फ्रूट के फायदे अधिक हे
  • कई बार लोगो को अधिक सेवन करने से दस्त की समस्या हो जाती हे जो सामान्य हे
  • आप को हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हे तो आप ईस पोस्ट को लाइक और शेयर भी कर सकते हे
  • अधिक मात्रा में ड्रैगन फ्रूट का  सेवन करना शरीर के लिए नुकसानदेय हे

ड्रैगन फ्रूट की खेती | dragon fruit in hindi

Leave a Comment