kaju ki kheti | काजू की खेती कैसे करे , देखभाल और लाभ की जानकारी | Cashew Farming

Cashew Farming | काजू की खेती कैसे करे , देखभाल और लाभ की जानकारी – kaju ki kheti , सूखे मेवों में सबसे अधिक पसंद काजू को किया जाता है काजू को सूखे मेवों का राजा भी कहा जाता है काजू की खेती एक बहुत अधिक मुनाफे वाली खेती है
वर्तमान में बहुत सारे किसान अभी काजू की खेती करना चाहते है लेकिन जानकारी नहीं मिलने के अभाव में वह खेती में आगे नहीं बढ़ पाते है

kaju ki kheti | काजू की खेती कैसे करे , देखभाल और लाभ की जानकारी | Cashew Farming
kaju ki kheti

हमने आप सभी की इसी समस्या को धयान में रखकर के यह सभी जानकारी आप के लिये यहां दी हे जिससे आप इसकी खेती की जानकारी लेकर के इसकी खेती की शुरुआत कर सकते है यहां पर आपको काजू के खेत तैयार करने से लेकर पौधे लगाने , किट नियंत्रण , पौधे खरीदने की जानकारी आप को यहां मिलेगी

काजू की खेती की सभी जानकारी | kaju ki kheti

  • काजू की खेती करने वाले राज्य काजू की खेती के लिये मिट्टी का प्रकार काजू की खेती में जलवायु और तापमान
  • काजू की उन्नत किस्में
  • खेत की तैयारी कैसे करें
  • काजू की खेती करने का समय
  • काजू के पौधे लगाने का तरीका
  • काजू के पौधे के में दुरी कितनी रखे
  • छोटे पौधे का विकाश कैसे करे – कटाई छटाई

.

  • काजू के पौधे कैसे तैयार करें
  • उर्वरक की आवश्यकता
  • काजू में सिंचाई की आवश्यकता
  • खरपतवार का नियंत्रण
  • काजू के पौधे की देखभाल कैसे करे
  • काजू के फलों की तुड़ाई कैसे करे
  • काजू के पौधे पर किट और रोग की जानकारी
  • काजू की खेती में उत्पादन
  • काजू की खेती में होने वाली आय

काजू की खेती करने वाले राज्य

काजू की खेती हमारे देश में व्यवसायिक तौर पर बहुत से राज्य में की जाती है जिनमे से ये सभी राज्य प्रमुख है जहा पर अधिक मात्रा में काजू की खेती की जाती है
पश्चिम-बंगाल
ओडिशा
महाराष्ट्र
कर्नाटक
तमिलनाडु
केरल
पांडुचेरी
झारखण्ड और गोवा के कुछ हिस्से में भी काजू की खेती की जाती है काजू के उत्पादन में सबसे अग्रणी राज्य केरल है

काजू की खेती के लिये मिट्टी का प्रकार

आप काजू की खेती करने वाले हे तो आप को सबसे पहले यह जानकारी होनी चाहिये काजू की खेती के लिये गहरी दोमट मिटटी की आवश्यकता हमें होगी काजू की खेती कभी भी श्रारीय मिटटी में नहीं करनी चाहिये
काजू की खेती कई जगह ढलान वाली जगह पर भी किया जाता हे जिससे भूमि मे कटाव नहीं होता हे यह सभी तरह की उपजाव भूमि में आसानी से उगाया जा सकता हे

काजू की खेती में जलवायु और तापमान

काजू की खेती पहाड़ी और मैदानी दोनों इलाको में आसानी से की जा सकती है
काजू के पौधे की सामान्य ऊंचाई 13 से 15 फिट के लगभग होती हे जो पौधे की किस्म के आधार पर निर्भर करता है
काजू की खेती के लिये आदर्श तापमान 20 से 35 डिग्री SC के लगभग अच्छा रहता है वर्तमान में काजू की ज्यादातर खेती पहाड़ी इलाको में की जाती है

यह भी पढ़िये – मोरपंखी के पोधे को लगाने के फायदे | देखभाल केसे करे और कब उगाये मोरपंखी | morpankhi plant


काजू की उन्नत किस्में

काजू की उन्नत किस्मों में ये किस्मे मुख्य रूप से लगाई जाती है जिनमे कुछ किस्मे अपने इलाके के लिए बहुत ही अच्छी पैदावार देती है जिनमे यह किस्मे सबसे अच्छी मानी जाती है
जैसे – बीबीपी -4 , बीबीपी -1 , बीबीपी -2 , वेगरला – 1 वेगरला – 2 , वेगरला – 3 , उल्लाल – 1 , उल्लाल -2 , उल्लाल – 3 , वीआईआर , चिंतामणि , NRCC , धराश्री , अम्रता , यूएन जैसी किस्मे हमारे देश में अधिक लगाई जाती है

सिंचाई कैसे करे

काजू की खेती में भी समय पर सिंचाई करना बहुत ही आवश्यक होता है इसके पौधे को लगाने के समय भी सिंचाई करना आवश्यक होता है
कुछ – कुछ दिन के अंतराल में सिंचाई करना बहुत आवश्यक होता हे जब तक पौधे का पूरी तरह विकाश नहीं हो जाता है पौधे में नई पत्तियों के फुटान के समय सिंचाई करना बहुत आवश्यक होता है

खेत की तैयारी कैसे करें

  • आप काजू की खेती करना चाहते हे तो आप सबसे पहले अपने खेत की पूरी तरह खरपतवार की सफाई कर ले
  • खेत की सफाई कर लेने के बाद आप खेत की 2 से 3 बार गहरी बुहाई करवाये
  • पौधे लगाने के पहले खेत को पूरी तरह समतल कर लेना चाहिये
  • खेत में होने वाली अनावश्यक झाड़ियाँ और सूखे पेड़ – पौधे को खेत से हटा देना चाहिये
  • अप्रेल – मई के महीने में पौधे लगाने के लिये आप चिन्हित किये गए स्थान पर गढ्डे खोद कर छोड़ दे
  • ऐसे पेड़ पौधे को खेत से हटा देना चाहिये जिससे काजू के पौधे को नुकसान होने की सम्भावना हो
  • पौधे से पौधे की दुरी 7 से 8 मीटर के बीच में रखना चाहिये


काजू की खेती करने का समय

काजू के पौधे लगाने के लिए सबसे अच्छा समय बरसात का होता है जून से दिसंबर के महीने के अंदर काजू के पौधे लगाने का सबसे अच्छा समय हे यह अवधि के अंदर जून – जुलाई के मौसम में बरसात शुरू हो जाती है बरसात के समय पर पौधे लगाना सबसे अच्छा रहता है इस मौसम में पौधे की जड़े अच्छी तरह जमीन को पकड़ लेती है और पौधा जलधि विकाश करने लगता है

जून में पौधे लगाने के लिये आप सबसे पहले अप्रेल – मई के महीने में खेत में पौधे के लिये गढ्डे खोद लेना चाहिये जिससे गढ्डे के अंदर फंगस नहीं लगेगा और मिटटी में धुप भी लग जायेगी इससे पौधे में रोग कम लगेगा

यह भी पढ़िये – लेवेंडर की खेती के फायदे , खूबसूरती और ओषधीय लाभ की जानकारी | lavender flower plant in hindi


काजू के पौधे लगाने का तरीका

काजू के पौधे को आप दो तरह से तैयार कर सकते है बीज के द्वारा और ग्राफ्टिंग द्वारा पौधे तैयार करके आप इसकी खेती कर सकते है

बीज के द्वारा –

काजू के पौधे बीज से तैयार करने के लिये आप एक अच्छी जगह पर इसके बीज की नर्सरी तैयार करे इसके बीज को आप थोड़ी थोड़ी दूर पर गड्डे खोद कर 2 – 2 बीज को एक – एक गड्ढे में बुहाई कर दे , इसकी बीज की बुहाई आप जून से जुलाई के महीने में ही करे, 25 दिन के लगभग में बीज से अच्छी तरह अंकुरण तैयार हो जाता है काजू के पौधे 4 से 5 साल के अंदर ये पौधे खेत में लगाने के लिये तैयार हो जाते है

ग्राफ्टिंग के द्वारा –

आप आसानी से नर्सरी से ग्राफ्टेड पौधे खरीद कर भी काजू की खेती कर सकते है आप काजू के पौधे को जून से लेकर अगस्त के महीने तक आप पौधे की रुपाई करते हे तो यह काजू की खेती के लिये अच्छा रहता है सर्दियों के मौसम को छोड़कर के आप बरसात के मौसम में आसानी से काजू के पौधे लगा सकते है


काजू के पौधे के में दुरी कितनी रखे

काजू के पौधे को लगाने के समय आप सही दुरी का चयन करके अच्छा उत्पादन काजू की खेती में ले सकते है
काजू के पौधे को लगाने के लिये सबसे अच्छी दुरी लाईन से लाईन की और पौधे से पौधे की दुरी ( 8 फिट ) रखना अच्छा रहता है काजू के पौधे को लगाते समय एक सही मात्रा में खाद का उपयोग जरूर करे


छोटे पौधे का विकाश कैसे करे – कटाई छटाई

काजू के पौधे में आप लम्बे समय तक अच्छा उत्पादन लेना चाहते है तो आप को काजू के पौधे की समय – समय पर सफाई और कटाई – छटाई करते रहना चाहिये , काजू के पौधे को आप शुरुआती समय से ही अच्छा ढांचा देने की कोशिस करेंगे तो आप को आगे अच्छा उत्पादन मिलेगा

समय समय पर पौधे से आप ख़राब हुई शाखाओ को केची ( AARI ) की सहायता से हटाते रहे जिससे पौधा सवस्थ्य रहेगा और पौधे में रोग भी नहीं लगेगा हमेशा पौधे से फल की तुड़ाई के बाद में आप पौधे की कटाई – छटाई जरूर करे जिससे आने वाले साल में हमें अच्छा उत्पादन मिले


काजू के पौधे कैसे तैयार करें

काजू के पौधे आप आसानी से बीज के द्वारा और ग्राफ्टेड विधि से पौधे तैयार कर सकते हे बीज से पौधे तैयार करने में बहुत अधिक समय लगता है बीज के मुकाबले आप आसानी से ग्राफ्टेड तकनीक से काजू के पौधे तैयार कर सकते है इसमें समय भी अधिक नहीं लगता हे और बहुत ही अच्छी कवालिटी के पौधे आप को मिल जाते है


उर्वरक की आवश्यकता

काजू के पौधे से अच्छे उत्पादन के लिये आप को काजू के पौधे को समय – समय पर खाद व् उर्वरक की आवश्यकता की पूर्ति करते रहना चाहिये , जब आप काजू के पौधे लगाये तब प्रति पौधे को मिटटी ,में मिला कर 15 किलो के लगभग गोबर की खाद या 15 किलो के लगभग केंचुआ खाद को गढ्डे में भर देना चाहिये


पौधे लगाने के बाद पहले साल 10 किलो के लगभग गोबर की खाद और 200 ग्राम रॉक-फास्फेट , 300 ग्राम यूरिया , 50 से 80 ग्राम MOP उर्वरक देते रहे , हर अगले साल आप इस उर्वरक की मात्रा को डेड गुना बड़ा सकते है ,
इस खाद और उरवर्क को आप साल में दो बार बाट कर देते रहे


खरपतवार का नियंत्रण

काजू के पौधे में अच्छे उत्पादन के लिये आप काजू के पौधे को पूरी तरह रोगों से और खरपतवार से बचा के रखे , पौधे की अच्छी बढ़वार के लिये आप समय-समय पर खरपतवार को पौधे से निकलते रहे

खरपतवार काजू के पौधे की जड़ो में होगा तो वह काजू के पौधे के लिए आवश्यक पोषक-तत्वों को सोख लेगा और हमारा पौधा सही तरह से विकाश नहीं कर पायेगा , अधिक खरपतवार से पौधे में रोगों का प्रभाव भी बढ़ने लगता है

अगर आप पौधे से समय पर खरपतवार को दूर नहीं करते हे तो आप की पैदावार भी कम हो सकती हे और पौधे में रोग लगने की सम्भावना भी बढ़ने लगती है

पौधा लगाने के 2 महीने के बाद में एक बार खरपतवार का नियंत्रण जरूर करें

यह भी पढ़िये – spider plant care indoor and outdoors | स्पाइडर प्लांट कि सभी मौसम में देखभाल ऐसे करे आसानी से

काजू के पौधे की देखभाल कैसे करे – Cashew Farming- kaju ki kheti

काजू की खेती में अच्छे उत्पादन के लिये आपको काजू के पौधे की समय-समय पर देखभाल करना आवश्यक होता है इसके लिए आपको समय -समय पर ये कार्य करते रहना चाहिये

  • अच्छी भूमि और उन्नत किस्मों का चुनाव करे
  • पौधे को समय पर खेत में लगाये
  • खेत से समय पर खरपतवार का नियंत्रण करते रहे
  • समय समय पर पौधे की कटाई – छटाई करते रहे
  • समय पर रोगो से पौधे का बचाव करे

यह सभी कार्य आप समय पर करके काजू की खेती में अच्छा उत्पादन और लाभ ले सकते है


काजू के फलों की तुड़ाई कैसे करे

काजू के पौधे से फलो की तुड़ाई नहीं की जाती है जब पौधे पर फल पककर के निचे गिर जाते है तब ही फलों को इकट्ठा करके फलों को अच्छी जगह पर धुप में सुखाया जाता है
फलों के सूखने के बाद में इन्हे प्रसंस्करण प्रकिर्या के बाद में खाने के लिये तैयार किया जाता है काजू के एक तैयार पौधे से लगभग 6 से 8 किलों के लगभग काजू के फलो की प्राप्ति होती है

काजू के पौधे यहां से Online खरीदिये

काजू का पौधा ( 199 ) – खरीदने के लिये यहाँ CLICK करे

काजू का पौधा ( 351 ) – खरीदने के लिये यहाँ CLICK करे

काजू का 8 पोधो का कॉम्बो ( 880 ) – रीदने के लिये यहाँ CLICK करे

काजू का 10 हाईब्रिड बीज ( 138 ) – खरीदने के लिये यहाँ CLICK करे


काजू के पौधे पर किट और रोग की जानकारी

स्टेम बोरर कीट
टि मॉस्किटो बग किट
रूट-बोरर किट
लिफ़ मैनर किट
शूट- केटरपिलर किट


काजू की खेती में उत्पादन

काजू की खेती में अच्छा उत्पादन मिलने के बाद में हमें औसत उत्पादन प्रति हैक्टेयर 10 से 15 किवंटल के लगभग फलों का हमें मिलता है

आप काजू की खेती करके अच्छा लाभ ले सकते है इसकी खेती में किसानो को अच्छी आमदनी होती हे काजू की खेती के साथ में आप मिश्रित खेती भी कर सकते है , Cashew Farming | काजू की खेती कैसे करे , देखभाल और लाभ की जानकारी – kaju ki kheti

Leave a Comment